shree krishna

भगवान श्री कृष्ण जी की आरती : आरती कुंजबिहारी की

(Bhagwan Shree Krishna Ji Aarti in Hindi) यहाँ पढ़ें भगवान श्री कृष्ण जी की आरती

By: डॉ पलाश ठाकुर (वैदिक ज्योतिषी, अंकशास्त्री, टैरो रीडर।)

आरती कुंजबिहारी की श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की।

गले में बैजन्तीमाला बजावैं मुरलि मधुर बाला॥

श्रवण में कुंडल झलकाता नंद के आनंद नन्दलाला की।

आरती कुंजबिहारी की श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की।

गगन सम अंगकान्ति काली राधिका चमक रही आली।

लतन में ठाढ़े बनमाली भ्रमर-सी अलक कस्तूरी तिलक।

चंद्र-सी झलक ललित छबि श्यामा प्यारी की।

आरती कुंजबिहारी की श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की।

कनकमय मोर मुकुट बिलसैं देवता दरसन को तरसैं।

गगन से सुमन राशि बरसैं बजै मुरचंग मधुर मृदंग।

ग्वालिनी संग-अतुल रति गोपकुमारी की।

आरती कुंजबिहारी की श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की।

जहां से प्रगट भई गंगा कलुष कलिहारिणी गंगा।

स्मरण से होत मोहभंगा बसी शिव शीश जटा के बीच।

हरै अघ-कीच चरण छवि श्री बनवारी की।

आरती कुंजबिहारी की श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की।

चमकती उज्ज्वल तट रेनू बज रही बृंदावन बेनू।

चहुं दिशि गोपी ग्वालधेनु हंसत मृदुमन्द चांदनी चंद।

कटत भवफन्द टेर सुनु दीन भिखारी की।

आरती कुंजबिहारी की श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

WhatsApp Us!